विचारो की अभिव्यक्ति के लिए आप सभी को धन्यवाद आप सभी के विचार ही मुझे प्रोत्साहित करते है!....

शुक्रवार, 29 जुलाई 2011

एक बार चिंतन तो कर ले !

आशा व् निराशा दोनों ही एक दुसरे के पूरक शब्द है ! लेकिन इन् दोनों शब्दों का व्याकरण में जितना उपयोग नहीं है उससे ज्यादा हमारे जीवन में इनका अधिक उपयोग है क्योंकि हमारे सम्पूर्ण जीवन की बागडोर इन्ही शब्दों  के आसपास घुमती रहती है !अत : ये एक शब्द न होकर हमारी जिंदगी  का एक अहम् हिस्सा  है  ! जब हम कोई काम तहे दिल से करते है तो हम आगे से ये उमीद भी करते  है की हमें संतोष जनक  जबाब प्राप्त हो लेकिन जब पूरी तरह से काम पूर्ण करने के बावजूद भी उसका सही उत्तर  नहीं मिलता है! तो हम बौखला जाते है तथा निराशा का दामन पकड़ लेते है एव हमारी यही इक्षा  होती है की जब संतोषप्रद जबाब ही नहीं मिल रहा तो ये काम करने  का कोई फायदा ही नहीं ! कई बार हमें क्रोध  भी आता है और कुछ समझ भी नहीं पाते है की आखिर में हमें क्या करना चाहिए ! लेकिन हम कभी ये नहीं सोचते की आखिर  क्या कारण है की हम जिस जबाब की प्रतीक्षा कर रहे थे वो हमें नहीं मिल पा रहा है कंही हमारे द्वारा किय गए कार्य में ही कोई कमी तो नहीं  है ! एव यह स्थिति हर इंसान के जिंदगी में आती  है ! शायद मेरे भी जिंदगी में भी और इसी कारण से शायद मै यह लिख पा रहा हु ! लेकिन जब हम ठन्डे दिमाग से सोचते है तो हमारे सामने दो कारण आते है जिनके बिना हमें संतोषजनक जबाब नहीं मिल पा रहा था ! एक तो यह की हो सकता है शायद हमारे काम में ही कोई कमी रहा गयी हो ! दूसरा कारण यह है की हमारी अपेक्षाए हमारे द्वारा किये गए कर्म से बड़ी हो जाती है ! अत : एक बार तो हमें यह विचार कर ही लेना चाहिए की कंही हम में ही तो कोई कमी नहीं क्योंकि आशा को निराशा बनने में देर नहीं लगती ! अत : हतो उत्साहित न होकर एक बार तो चिंतन जरूर कर ले !! 


Mani Bhushan Singh

गुरुवार, 21 जुलाई 2011

खुद को पह्चाने


लेखिका कमलादास के पास एक किशोरी आई , जो जीवन  से निराश थी ! उसे लगता था की उसकी छबी एक अच्छी  लड्की की नही है ! कमला ने उससे कहा - तुम जिन पाँच बातो  से सर्वाधिक  नफरत करती  हो वो मुझे बताओ ! लड्की ने कहा - मुझे अपनी आन्टी  से  सर्वाधिक नफरत है , वह मुझे पसंद नही करती! लेखिका ने कहा "तुम वो पांच बाते बताओ जिनसे तुम्हे खुशी मिलती है ! लड्की ने कहा मुझे सिन्दुरी आम सबसे प्यारा है " कमला ने फिर कहा -आत्महत्या करने से पहले सिर्फ मेरी एक बात मान लो ! कल सुबह सिन्दुरी आम लेकर आन्टी के घर जाओ ! लड्की ने चिलाते हुए कहा - मै उनसे नफरत करती हु क्यु जाउँ वन्हा  ! लेकिन लेखिका ने उसे किसी तरह उसे राजी कर लिया ! एक हफ्ते बाद वो लड्की उसे साईकिल चल्ती हुई नजर आई , तो उन्होने  चौंकते  हुए सवाल किया ! इस पर लड्की ने जबाब दिया की आपकी तरकीब काम कर गई ! आन्टी से मिल्ने के बाद ही पता चला की वह कितनी अच्छी है ! अर्थात 
हम किस्सी भी व्यक्ति के बारे मे दुर से ही आकलन नही कर सकते की उस व्यक्ति का स्वभाव  कैसा है ! तथा वह हमारे साथ्  मे कैसा  व्यवहार करेगा !जब की किसी को बेहतर तरिके से जानने के लिए उसे करिब से जानना सबसे जरुरी होता है !  
Mani Bhushan Singh

गुरुवार, 14 जुलाई 2011

ये कैसी शर्म


आज के इस युग में इस २१ वि शताब्दी  में  जंहा पर मर्द व् औरतो के मध्य में कोई अंतर नहीं रहा है ! हम इसी बात को लेकर हमेसा लड़ते रहते है की औरतो को भी सामान हक़ मिलना चाहिए एव मै भी इस बात का समर्थन पूर्णतया करता हू ! की औरत व् मर्द में कोई अंतर नहीं है व् जो काम मर्द कर सकता है वो एक औरत भी अच्छी प्रकार से कर सकती है ! अब तो हमारे संविधान में भी इसको स्थान दिया गया है व् औरतो के लिये  आरक्षण है !
औरत को ममता  ,शर्म ,हया की मूर्ति माना जाता है ! औरत के जितना क्षमाशील ,सहनशील ,दयालु प्रवृति का कोई भी प्राणी शायद इस जगत में नहीं है !औरत के बिना मर्द का कोई अस्तित्व ही संभव  नहीं है क्योंकि पुरुष को जन्म देने वाली जननी वह औरत ही होती है जो की नव माह तक दर्द को सहन करके बच्चे को जन्म देती है ये सब बाते को मै तहे दिल से स्वीकार करता हु ! 
        लेकिन जंहा तक शर्म की बात है तो शर्म हर इंसान में होना चाहिए  ये बात सही है लेकिन उसकी भी एक सीमा है हम शर्म का आवरण ऐसा भी ना ओढ़ ले की स्वयं का पतन व् अपनी सोच को ही ख़तम कर दे ! तथा खुद का तो विनाश कर ही रहे है साथ में अपने सामने वाले व्यक्ति का भी जिससे हम  सामना कर रहे है !
जब कोई लड़की किसी रास्ते से गुजर रही होती है और अचानक उसी  मार्ग से कोई लड़का गुजर रहा हो तो वह शर्म से अपना सर झुका लेती है अब बताये ये आखिर में कैसी शर्म ! अब लड़के ने तो लड़की को ना ही कोई एक भी अपशब्द कहा ना ही कोई गलत व्यवहार किया तो फिर ये सर झुकाना कुछ ज्यादा ही शर्म नहीं है एक तो वैसे भी लड़के बदनाम ही है और फिर अगर स्त्री के साथ कुछ होता है तो पूरी मर्द जाती बदनाम होती है ये कैसा समाज है और इन् सब का मुख्य कारण हमारी समाज की मानसिक अवधारणा व् नजरिया है जो की समाज ने बना रखी है! हम हमेसा यही कहते है की "ताली  कभी एक हाथ से नहीं बजती "लेकिन ये जो शर्म है इसने तो सबको बदनाम कर दिया है ! यंहा ताली तो एक हाथ से ही बज रही है और लोग दुसरे ताली बजाने वाले हाथ को धुंडने लगते है 
             हम जो भी पिक्चर फ़िल्म देखते  है वह समाज पर ही आधारित होती है तथा वो एक तरह से समाज में होने वाले गतिबिधियो से हमारा सामना करते है ! मुझे इसी  बात पर एक पिक्चर फ़िल्म :ऐतराज" की याद आती है जिसमे खलनायिका की भूमिका अदा कर रही प्रियका चोपड़ा नायक अक्षय कुमार पर स्वयं का बलात्कार का आरोप लगाती है जो की गलत होता है लेकिन सभी लोग तो यही मान लेते है है की कोई औरत स्वयं अपना इज्ज़त गँवा  नहीं सकती जो की बाद में सच के सामने आने पर ये जाहिर हो जाता की नायक बेकसूर होता है  ! 
अत:ये जो अधिकाधिक शर्म है वह कंहा तक उचित है जो किसी को बिना गुनाह के ही सजा दिला दे !!  
--
Mani Bhushan Singh

मंगलवार, 14 जून 2011

कुछ खास नही ........

कुछ खास नही,फिर भी आस है 
जीवन जिने का उल्लास   है !
हर पल नया कुछ पाते है 
 छोड़ पीछे भी बहुत कुछ जाते है !

ख़ुशियो का तो हम करते है स्वागत 
गम को पीछे छोड़ जाते है !

यही जिंदगी का राज है 
कुछ खास नही,फिर भी आस है
जीवन जिने का उल्लास   है  !!

हर गम से लेते है हम सबक 
कामयाबी पर मानते है ख़ुशी! 

एक छोटे से दुःख से हम 
हो जाते है दुखी : 
लगता है जैसे हो गई जिंदगी बर्बाद !

फिर भी हार नहीं माना है 
क्योंकि संघर्ष करना हमने जाना है !

कुछ खास नही,फिर भी आस है
जीवन जिने का उल्लास   है  !!

ख़ुशी कितनी  भी छोटी क्यों न हो  
 दूर उसे जाने नहीं देते हम  !

गम कितना ही बड़ा क्यों ना हो 
पास उसे आने नहीं देते हम !

बस यही खुबिया ऐसी है जो इंसान
 होने का एहसास दिलाती है !

बहुत कुछ पाने के लिए थोडा
खोने की प्रवृति हमें सिखाती है !

कुछ खास नही,फिर भी आस है
जीवन जिने का उल्लास   है  !

Mani Bhushan Singh

सोमवार, 6 जून 2011

थोडा बहुत लालच

एक  ही शब्द के अनेको अर्थ होते है और यह अर्थ भी मनुष्य स्वयं अपनी सोच के अनुसार बनाता है कई ऐसे शब्द है जिनको हम अनुचित मानते है व् कुछ को उचित लेकिन जिसमे हमारा फायदा होता है उसे हम सही मान लेते है जो हमारे लिए नुकसानदायक उसे हम गलत मान लेते है लेकिन इन् सब में सर्वाधिक आवश्यक हमारी सोच है !क्योंकि इनके अर्थ भी हमारी सोच पर ही निर्भर करती है हम कहते है की "लालच बुरी भला है" वँही दूसरी तरफ "प्रतिस्पर्धा से मनुष्य का विकास  होता है " !प्रतिस्पर्धा को हम उचित मानते है लेकिन लालच को बुरा ! अब यदि हम अपनी सोच को बदले तो प्रतिस्पर्धा में भी लालच है ,क्योंकि लालच के  बिना तो प्रतिस्पर्धा है ही नहीं ! जब मनुष्य में किसी से ज्यादा पाने की ईच्छा होती है तब उसमे लालच का भाव उत्पन होता है तभी उसका विकास होता है अत: मनुष्य में थोडा बहुत तो लालच होना ही चाहिए ,क्योकि इंसान यदि लालच का भाव नहीं रखता है और जितना है उसमे ही संतोष रखता है  तब तो यह प्रक्रति स्थिर हो जाएगी व् विकास  रुक जायेगा!अत: थोडा बहुत तो लालच होना ही चाहिए लेकिन एक सीमा तक !

हर इंसान की सोच अलग होती है उसकी  प्रकृति भी अलग होती है और हर इंसान अपनी  प्रकृति के अनुसार ही कर्म करता  है !एव यह उसके स्वाभाव पर निर्भर करता है वह किस प्रकार का कर्म करता है !तथा उसकी सोच कैसी  है ! हमारे भारत देश में हर किसी को अपने विचारो की अभिव्यक्ति की पूर्णतया स्वंत्रता है !
एव मेरा जंहा तक मानना है तो हम जिस समाज में जीवन व्यतीत कर रहे है यंहा पर 90  % व्यक्ति का कोई भी उद्देश्य बिना लालच के नहीं होता है चाहे हम इसे स्वीकार भले ही नहीं करे  लेकिन सच्चाई तो अस्वीकार नहीं किया जा सकता !
लालच का अर्थ यह नहीं की हम बुरे कर्मो में इसका प्रयोग करे और यह सोच ले की हम तो प्रकृति का विकाश कर रहे है अपितु यदि हम थोडा सा अपनी सोच बदले तो यही लालच हमारा कर्तब्य  बन जायेगा !
जैसे -- यदि कंही पर कोई गलत काम हो रहा है तो हम यह सोचते है की हमें इससे क्या लेना लेकिन यदि हम अपनी सोच को बदलकर ये सोचे की क्या पता ये हमारे साथ भी हो सकता है तब हमें हमारा स्वार्थ का लालच ये गलत काम रोकने पर मजबूर कर देगा ! 
मेरा उद्देश्य किसी भी व्यक्ति विशेष की भावना को ठोश पहुचाना उद्देश्य नहीं है ! यदि किसी की भी भावना आहत होती है तो मै उसके लिए क्षमा प्रार्थी हु  ......