विचारो की अभिव्यक्ति के लिए आप सभी को धन्यवाद आप सभी के विचार ही मुझे प्रोत्साहित करते है!....

मंगलवार, 14 जून 2011

कुछ खास नही ........

कुछ खास नही,फिर भी आस है 
जीवन जिने का उल्लास   है !
हर पल नया कुछ पाते है 
 छोड़ पीछे भी बहुत कुछ जाते है !

ख़ुशियो का तो हम करते है स्वागत 
गम को पीछे छोड़ जाते है !

यही जिंदगी का राज है 
कुछ खास नही,फिर भी आस है
जीवन जिने का उल्लास   है  !!

हर गम से लेते है हम सबक 
कामयाबी पर मानते है ख़ुशी! 

एक छोटे से दुःख से हम 
हो जाते है दुखी : 
लगता है जैसे हो गई जिंदगी बर्बाद !

फिर भी हार नहीं माना है 
क्योंकि संघर्ष करना हमने जाना है !

कुछ खास नही,फिर भी आस है
जीवन जिने का उल्लास   है  !!

ख़ुशी कितनी  भी छोटी क्यों न हो  
 दूर उसे जाने नहीं देते हम  !

गम कितना ही बड़ा क्यों ना हो 
पास उसे आने नहीं देते हम !

बस यही खुबिया ऐसी है जो इंसान
 होने का एहसास दिलाती है !

बहुत कुछ पाने के लिए थोडा
खोने की प्रवृति हमें सिखाती है !

कुछ खास नही,फिर भी आस है
जीवन जिने का उल्लास   है  !

Mani Bhushan Singh

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर संवेदनशील भाव समेटे हैं बेहद खूबसूरत रचना और पोस्ट करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'कुछ ख़ास नहीं फिर भी आस है
    जीवन जीने का उल्लास है '
    ........................सुन्दर रचना
    ..............आशा ही जीवन है

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस जीवन की यही आप बनी रहनी चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं